14.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022

उत्तर प्रदेश: परिवार का पेट भरने तक का नही था पैसा, कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या

मुफ्त राशन तो था, लेकिन दूध, सब्जियां, तेल और गैस खरीदने के रुपये नहीं थे। 4 बेटियां और 6 महीने का बच्चा दो दिन से भूखे। कर्ज में डूबे किसान ने की आत्महत्या।

जालौन। केंद्र हो या प्रदेश सरकार, दोनों ही किसानों को लेकर लगातार नई योजनाओं और उपायों का गुणगान करते अक्सर नजर आते हैं। जमीनी हकीकत झकझोर देने वाली है। यूपी के जालौन में गरीब किसान ने खेती में दो साल से हो रहे नुकसान और कर्ज के बोझ के बीच जीने से ज्यादा आत्महत्या करना सही समझा। किसान की 4 बेटियां और 6 महीने का दुधमुंहा बच्चा है। आगामी 14 जून को उसकी छठी के कार्यक्रम की तैयारी थी। अकाउंट में 3456 थे, जिसमे उसने तीन हजार के कार्ड छपवाकर बंटवा दिए। कोटे से सरकारी राशन मिला था। गैस, तेल, सब्जियां और दलहन खरीदने के लिए पैसे नहीं बचे थे। खेती के लिए लिया गया कर्ज पहले से ही बोझ बन गया था। इसलिए किसी से पैसे की व्यवस्था भी नहीं हो सकी। इन सभी कारणों के बीच उसने यह कदम उठाया।

क्या है पूरा मामला?

यूपी के जालौन के कुठौंदा बुजुर्ग में देव सिंह और उनका परिवार रहता है। पारिवारिक बँटवारे में देव के हिस्से में कच्चे मकान का एक कमरा आया था। देव सिंह के परिवार में उनकी पत्नी नीतू, चार बेटियां शिवानी (10), अनुष्का (7), जाह्नवी (4), परिधि (2) और एक दुधमुंहा बेटा अभय (6 माह) हैं। देव सिंह के बड़े भाई दयाशंकर ने बताया कि, “देव सिंह बहुत मेहनती था। लगभग दो साल से उसे खेती में लगातार नुकसान हो रहा था। उसने खेती के लिए गांव के लोगों और रिश्तेदारों से लगभग ढाई लाख का कर्ज ले रखा था। खेती में नुकसान होने के कारण वह घर चलाने के लिए मजदूरी भी करता था। लेकिन कर्ज में डूबने के चलते मानसिक रूप से परेशान चल रहा था, इसलिए काम करने की भी हिम्मत टूटती जा रही थी।”

एक ही बीघे थी जमीन, फसल के नुकसान से बढ़ा मानसिक दबाव

देव सिंह के बड़े भाई दयाशंकर ने बताया कि, देव सिंह के पास 1 बीघा जमीन था। परिवार का भरण पोषण करने के लिए वह बटाई पर लेकर खेती करता था। उसने साहूकारों से कर्ज भी ले रखा था। इसके चलते वह मानसिक रूप से टूट चुका था, जिस कारण उसने इतना बड़ा कदम उठाया।

बैंक खाते में बचे हैं मात्र 546 रुपये

देव सिंह का खाता जालौन की आर्यावर्त बैंक शाखा में है। 18 मई तक 3546 रुपए जमा थे। 19 मई को देव सिंह ने 3 हजार निकाल लिए थे, जिससे बेटे की छठी के कार्ड छपवाए थे। इसके बाद उसके खाते में मात्र 546 रुपये ही रह गए थे। घर में भी पैसे न होने के कारण आर्थिक स्थिति लगातार खराब होती जा रही थी।

मृतक देव सिंह का घर [फोटो - सत्य प्रकाश भारती, द मूकनायक]
मृतक देव सिंह का घर [फोटो – सत्य प्रकाश भारती, द मूकनायक]

14 जून को थी बेटे की छठी, रिश्तेदारी में बंट गए थे कार्ड

देव सिंह की पत्नी नीतू ने बताया कि, उनके छह माह के बेटे की 14 जून को छठी थी। सभी रिश्तेदारी में कार्ड भी बट चुके थे, लेकिन घर में खाने तक को न होने के चलते वह परेशान थे। इस कारण उन्होंने इस तरह का कदम उठाया है, “दो भाइयों में सवा बीघा जमीन थी, जिसमें घर परिवार का भरण पोषण सही तरीके से नहीं हो पा रहा था,” उन्होंने बताया।

लेखपाल को भेजकर कराई जा रही जांच

जालौन के उपजिलाधिकारी राजेश कुमार सिंह का कहना है कि, किसान देव सिंह की मौत की जानकारी उन्हें मिली है। उन्होंने लेखपाल को भेजकर इस मामले की जांच कराने के आदेश दिए हैं, लेखपाल द्वारा रिपोर्ट आते ही जो भी उचित मुआवजा होगा परिवार को दिलाया जाएगा।

Satya Prakash Bharti
Satya Prakash Bharti, Journalist The Mooknayak

Related Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...
- Advertisement -

Latest Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...

मध्य प्रदेश: वन संरक्षण के लिए आदिवासी युवाओं को रोजगार से जोड़ रहा वन विभाग

वन उपज को एकत्र कर जीवनयापन करने वाले आदिवासी युवकों के लिए विभाग ने शुरू किया कौशल विकास कार्यक्रम।

खबर का असरः सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने लगा दूध

जयपुर। राजस्थान के सरकारी विद्यालयों व मदरसों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को अब प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार...