23.1 C
Delhi
Thursday, October 6, 2022

फिर सीवर में उतरे दलित सफाईकर्मियों की मौत, नहीं थम रहा मौतों का सिलसिला

नई दिल्ली। दिल्ली के मुंडका स्थित एक अपार्टमेंट में सफाई करने के लिए सीवर में बिना उपकरण ही उतरे दो युवकों की दम घुटने से मौत हो गई। दो अन्य की हालत गंभीर बनी हुई है। दोनों का इलाज नजदीकी अस्पताल में किया जा रहा है। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए संजय गांधी हॉस्पिटल के मोर्चरी भिजवा दिया है। मृतकों की पहचान हरियाणा के झज्जर निवासी 30 साल के अशोक कुमार और बक्करवाला जेजे कॉलोनी निवासी 32 साल के रोहित के रूप में हुई है।

जानिए क्या है पूरा मामला

दिल्ली के मुंडका इलाके में रोहित कॉलोनी में सफाई का काम करता था जबकि अशोक गार्ड था। मुंडका पुलिस के मुताबिक, उन्हें शुक्रवार शाम लोकनायक पुरम कॉलोनी में सीवर की सफाई करने के दौरान दो लोगों के अचेत होने की जानकारी मिली। सूचना मिलते ही पुलिस और दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे. दमकल कर्मियों ने मेन हॉल को चौड़ा करने के बाद दोनों को सीवर से अचेत अवस्था में निकाला और अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर्स ने दोनों को मृत घोषित कर दिया।

सीवर में बिना सुरक्षा उपकरण उतरने पर मौत

स्थानीय लोगों के मुताबिक, लोकनायक पुरम कॉलोनी को डीडीए ने बसाया है। कॉलोनी में सीवर से जुड़ी समस्या थी। इस बात की जानकारी डीडीए के अधिकारियों को दी गई थी। शुक्रवार को कुछ लोग सीवर सफाई के लिए आए। उन्होंने यहां काम करने वाले रोहित को सीवर में उतरने के लिए राजी कर लिया। बिना किसी सुरक्षा उपकरण के रोहित सीवर में उतर गया। कुछ देर तक अंदर से कोई हरकत नहीं होने पर अनहोनी की आशंका हुई।

दम घुटने से अचेत हुए सफाईकर्मी

पुलिस अधिकारी ने बताया कि उसके बाद अशोक रोहित को देखने के लिए अंदर गए और वह भी अचेत हो गए। इस दौरान दो अन्य व्यक्तियों ने भी रोहित और अशोक को बचाने की कोशिश की, लेकिन उन्हें भी जहरीली गैस के कारण बेचौनी महसूस हुई तो उनकी चीख सुनकर जैसे-तैसे वहां मौजूद अन्य लोगों ने उन्हें बाहर निकाल लिया। दोनों को तुरंत नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस और दमकल कर्मी मौके पर पहुंचे. दमकल कर्मियों ने दोनों को बाहर निकाला। मरने वाले दोनों लोग इसी इलाके में रहते थे।

कब-कब हुए हादसे


30 मार्च 2022ः संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में सीवर में उतरे चार लोगों की दम घुटने से मौत। मरने वालों में एक ठेकेदार, दो मजदूर और ई-रिक्शा चालक था। मजदूर एमटीएनएल सीवर लाइन में तार बिछाने का काम करते थे। ई-रिक्शा चालक की मजदूरों को बचाने में जान चली गई थी।

27 अप्रैल 2022ः बवाना औद्योगिक क्षेत्र में सीवर में उतरे दो युवकों की जहरीली गैस की चपेट में आने से मौत। एक युवक सीवर से कबाड़ निकालने के लिए घुसा था, जबकि दूसरा युवक उसे निकालने के दौरान सीवर में अचेत हो गया।

22 जून 2022ः बवाना औद्योगिक इलाके में सीवर में उतरे दो युवकों की मौत। दोनों व्यक्ति कूड़ा बीनने वाले लोग थे।

Satya Prakash Bharti
Satya Prakash Bharti, Journalist The Mooknayak

Related Articles

हरियाणा: फरीदाबाद स्थित निजी हॉस्पिटल के वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट में उतरे 4 दलित सफाईकर्मियों की जहरीली गैस से मौत

सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी हॉस्पिटल में हुआ यह दर्दनाक हादसा। नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद के सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी...

खबर का असरः पत्नी की गोली मारकर हत्या का आरोपी युवक गिरफ्तार

बेटी के हत्यारे की दो महीने बाद गिरफ्तारी होने पर छलक पड़े पिता के आंसू, जाग उठी न्याय...

राजस्थान: जंगल व वन्यजीव बचेंगे तभी पर्यावरण का संरक्षण होगा

वन्यजीव सप्ताह के तहत पर्यावरण संरक्षण की अलख भावी पीढ़ी में जगाने के लिए सरकारी स्कूलों में विविध कार्यक्रम आयोजित
- Advertisement -

Latest Articles

हरियाणा: फरीदाबाद स्थित निजी हॉस्पिटल के वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट में उतरे 4 दलित सफाईकर्मियों की जहरीली गैस से मौत

सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी हॉस्पिटल में हुआ यह दर्दनाक हादसा। नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद के सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी...

खबर का असरः पत्नी की गोली मारकर हत्या का आरोपी युवक गिरफ्तार

बेटी के हत्यारे की दो महीने बाद गिरफ्तारी होने पर छलक पड़े पिता के आंसू, जाग उठी न्याय...

राजस्थान: जंगल व वन्यजीव बचेंगे तभी पर्यावरण का संरक्षण होगा

वन्यजीव सप्ताह के तहत पर्यावरण संरक्षण की अलख भावी पीढ़ी में जगाने के लिए सरकारी स्कूलों में विविध कार्यक्रम आयोजित

दिल्ली: अशोक विजयदशमी के दिन 10 हजार लोगों ने ली बौद्ध दीक्षा, देश में लगभग 1 लाख लोगों ने बौद्ध धम्म किया ग्रहण

नई दिल्ली। डॉ. भीमराव आंबेडकर ने आखिरी दिनों में सभी धर्मों पर गहरा अध्ययन करने के बाद देश में फैली जाति व्यवस्था...

गुजरात मॉडल: 811 करोड़ की योजनाओं के बाद भी, पिछले 30 दिनों में लगभग 24000 बच्चे कुपोषित मिले!

गुजरात। राज्य सरकार द्वारा पोषण को नियंत्रित करने के लिए 811 करोड़ रुपये की योजनाओं की घोषणा के बाद भी गुजरात राज्य...