23.1 C
Delhi
Friday, October 7, 2022

वुमनः पिछले पांच साल में दोगुनी हुई महिला बॉस, वर्क कल्चर की आजादी ने महिलाओं के सपनों को दी उड़ान

नई दिल्ली। पूरे विश्व में 21वीं सदीं में महिलाएं हर शिखर को हासिल कर रही हैं। भले ही ऑफिस का काम हो बिजनेस संभालना हो। महिलाओं ने हर काम में लोहा मनवा लिया है। इसका ही नतीजा है कि आज हर काम में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है।

हाल ही में ग्रांट थॉर्नटन की इंटरनेशनल बिजनेस रिपोर्ट 2022 में बिजनेस में महिलाओं की लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आएं हैं। जिसके अनुसार 2017 में दुनियाभर में बिजनेस ऑर्गेनाइजेशन में महिला बॉस 25 प्रतिशत थीं जो 2022 में 32 प्रतिशत हो गई है। विश्व स्तर पर यह आंकड़ा बहुत अच्छा नहीं हैए लेकिन भारत के लिहाज से देखें तो यह आंकड़े बहुत बेहतर हैं।

29 देशों में किया गया सर्वे

ग्रांट थॉनर्टन द्वारा इस सर्वे में 29 देशों की 10 हजार कंपनियों को शामिल किया गया थाए जिसके अनुसार कंपनियों में महिलाओं की भागीदारी पर सर्वे किया गया। जिसमें कंपनियों की विभिन्न पदों में महिलाओं की भागीदारी पर विशेष ध्यान दिया गया है।

सर्वे के अनुसार 2017 से 2022 के बीच कंपनियों में बॉस की कुर्सी तक पहुंचने वाली महिलाओं की संख्या दोगुनी से भी ज्यादा बढ़ गई है। वहीं साल 2017 में वरिष्ठ पदों पर काम करने वाली महिलाएं 17 प्रतिशत थीं जो 2022 में 38 प्रतिशत हो गईं। वहीं दूसरी ओर 2017 में 38 प्रतिशत ऐसी कंपनियां थींए जहां सीनियर पद पर महिलाएं नहीं थींए साल 2022 आने तक यह आंकड़ा मात्र 3 प्रतिशत ही रह गया। पिछले पांच सालों में विश्व में बॉस बनने वाली महिलाओं की तुलना में करीब 3 गुना ज्यादा बढ़ी है।

कोरोना में वर्क फ्रॉम होम ने महिलाओं को दी नई उड़ान

कोरोना काल कई लोगों के लिए बहुत बुरा रहा तो कइयों की पूरी जिंदगी ही बदल गई। जिसका एक सबसे बड़ा कारण था नया स्टार्टअप। अवसर मिला कुछ नया करने का।

भारत की 250 कंपनियों का सर्वे

भारत की 250 कंपनियों में भी यह सर्वे किया गया था। जिसका नतीजा यह निकला की कोरोना काल के बाद नए वर्क कल्चर यानि की वर्क फ्रॉम होम से महिलाओं की बहुत ज्यादा फायदा हुआ है। सर्वे के अनुसार 63 प्रतिशत महिलाओं का मानना है कि वर्क फ्रॉम होम और काम के घंटो में आजादी के कारण महिला कर्मचारियों को लाभ मिला हैए जिसके कारण वह अपनी सुविधा और आजादी के हिसाब से काम कर पाईं।

इसमें 49 प्रतिशत का कहना है कि कंपनी में महिला और पुरुष का औसत सुधारने के लिए स्टेक होल्डर्स ने दबाव बढ़ाया। जबकि 90 प्रतिशत ऐसा मानते हैं कि इस नए वर्क कल्चर की वजह से लंबे समय के लिए महिलाओं के करियर को और ऊंची उड़ान मिल सकती है।

45 प्रतिशत महिलाओं ने शुरू किया स्टार्टअप

21वीं सदीं में स्टॉर्टअप नाम के शब्द का बहुत बोलबाला है। सोशल मीडिया से लेकर आमजन तक नए.नए स्टार्टअप की बात करता है। अब घर को संवारने के साथ.साथ महिलाएं अपना स्टार्टअप भी संवार रही हैं। इंडिया ब्रांड इक्विटी फाउंडेशन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 45 प्रतिशत स्टार्टअप की मालकिन महिलाएं हैंए जिसमें से 20 प्रतिशत मध्यम और लघु उद्योगों की कर्ताधर्ता महिलाएं हैं।

महिला स्टार्टअप की बात करें तो देश के टॉप ब्रांड में मालिक महिलाएं है। शिक्षा हो या मेकअपए घर के समान से कपड़ों तक महिलाओं में अपना स्टार्टअप शुरू किया है और वह इसमें सफल भी हैं।

बायजू की फाउंडर दिव्या गोकुलनाथ

बायजू की दिव्या गोकुलनाथ ने साल 2011 में शिक्षा के क्षेत्र में एक कोचिंग स्टार्टअप शुरू किया। जिसकी वैल्यू आज 1ण्43 लाख करोड़ है। नायका मेकअप ब्रांड फाल्गुनी नायर आज किसी परिचय की मोहताज नहीं है। विपरीत परिस्थितियों में उन्होंने जिंदगी को जीतकर दिखाया है। आज उनकी कंपनी की वैल्यू 99 हजार करोड़ है। आज देश में हजारों महिलाएं हैं जो नए.नए आइडिया के साथ स्टार्टअप शुरू कर रही हैं।

वहीं लिंक्डिन की इसी साल फरवरी की रिपोर्ट के अनुसार भारत में शिक्षा के क्षेत्र में महिला बॉस सबसे ज्यादा 30 प्रतिशत हैंए जबकि रियल स्टेट में सबसे काम सिर्फ 14 प्रतिशत महिला बॉस हैं।

Poonam Masih
Poonam Masih, Journalist The Mooknayak

Related Articles

हरियाणा: फरीदाबाद स्थित निजी हॉस्पिटल के वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट में उतरे 4 दलित सफाईकर्मियों की जहरीली गैस से मौत

सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी हॉस्पिटल में हुआ यह दर्दनाक हादसा। नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद के सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी...

खबर का असरः पत्नी की गोली मारकर हत्या का आरोपी युवक गिरफ्तार

बेटी के हत्यारे की दो महीने बाद गिरफ्तारी होने पर छलक पड़े पिता के आंसू, जाग उठी न्याय...

राजस्थान: जंगल व वन्यजीव बचेंगे तभी पर्यावरण का संरक्षण होगा

वन्यजीव सप्ताह के तहत पर्यावरण संरक्षण की अलख भावी पीढ़ी में जगाने के लिए सरकारी स्कूलों में विविध कार्यक्रम आयोजित
- Advertisement -

Latest Articles

हरियाणा: फरीदाबाद स्थित निजी हॉस्पिटल के वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट में उतरे 4 दलित सफाईकर्मियों की जहरीली गैस से मौत

सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी हॉस्पिटल में हुआ यह दर्दनाक हादसा। नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद के सेक्टर-16 स्थित क्यूआरजी...

खबर का असरः पत्नी की गोली मारकर हत्या का आरोपी युवक गिरफ्तार

बेटी के हत्यारे की दो महीने बाद गिरफ्तारी होने पर छलक पड़े पिता के आंसू, जाग उठी न्याय...

राजस्थान: जंगल व वन्यजीव बचेंगे तभी पर्यावरण का संरक्षण होगा

वन्यजीव सप्ताह के तहत पर्यावरण संरक्षण की अलख भावी पीढ़ी में जगाने के लिए सरकारी स्कूलों में विविध कार्यक्रम आयोजित

दिल्ली: अशोक विजयदशमी के दिन 10 हजार लोगों ने ली बौद्ध दीक्षा, देश में लगभग 1 लाख लोगों ने बौद्ध धम्म किया ग्रहण

नई दिल्ली। डॉ. भीमराव आंबेडकर ने आखिरी दिनों में सभी धर्मों पर गहरा अध्ययन करने के बाद देश में फैली जाति व्यवस्था...

गुजरात मॉडल: 811 करोड़ की योजनाओं के बाद भी, पिछले 30 दिनों में लगभग 24000 बच्चे कुपोषित मिले!

गुजरात। राज्य सरकार द्वारा पोषण को नियंत्रित करने के लिए 811 करोड़ रुपये की योजनाओं की घोषणा के बाद भी गुजरात राज्य...