35.7 C
Delhi
Saturday, July 2, 2022

कासगंज : ठाकुरों ने दलित युवक को पेड़ से बांध कर पीटा, पीड़ित परिवार ने पुलिस पर लगाया गंभीर आरोप

कासगंज। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक आ चुका है, लेकिन प्रदेश में सत्तारूढ़ दल के अपने ही वादे अभी तक पूरे नहीं हुए हैं। सीएम योगी लगातार अपराध और अपराधियों पर लगाम लगाने के दावे करते रहते हैं। असलियत इससे अलग है क्योंकि वो दावे धरातल पर उतरते नहीं दिख रहे। अब एक बार फिर से सवर्ण जाति के अत्याचार की घटना सामने आई है। यूपी के कासगंज में ठाकुरों ने कथित रूप से एक दलित को पेड़ से बांधकर पीटा है।

क्या है पूरा मामला

उत्तर प्रदेश के कासगंज से एक दलित के साथ अत्याचार का मामला सामने आया है। एक दलित को पेड़ से बांध कर इलाके के ठाकुरों द्वारा उसके साथ मारपीट करने का आरोप है। पीड़ित और गांव के ही विपक्षीगण किसनवीर पुत्र गीतम सिंह, गीतम सिंह पुत्र तेजसिंह व हरिओम के बीच लंबे समय से रंजिश चल रही है।

31 दिसंबर 2021 की सुबह पीड़ित सुरजन सिंह को लगभग 11 बजे विपक्षी ठाकुर लोग यह कह कर घर से साथ ले गए की उसके बिजली के मीटर में कमी आ गयी है, उसे ठीक करा लो। पीड़ित सुरजन सिंह उनके साथ गाड़ी में बैठ कर चला गया।

कुछ दूर पहुंचने के बाद ठाकुरों ने उसे जातिसूचक गाली देनी शुरु कर दी। ठाकुर लोग बंदूक के दम पर पीड़ित को डराने लगे की यदि उसने आवाज निकाली तो उसे गोली मार देंगे, और इलाके के काली नदी के पास ले जा कर सुरजन सिंह की लाठी डंडो से जमकर पिटाई कर दी।

इस घटना की जानकारी परिजनों को हुई तो वह लोग भी निजी ऑटो से वहाँ पहुँचे।  अपने पति को पिटता देख पीड़ित की पत्नी ने शोर मचा कर अन्य लोगो को वहां बुलाया। घटना के बाद पीड़ित व उसके परिजन थाने गए और विपक्षियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई।

पुलिस नहीं कर रही कार्यवाही

पीड़ित ने आरोपियों के खिलाफ इलाके के थाने में एफआईआर दर्ज करा दी है। लेकिन, आरोप है कि, एफआईआऱ दर्ज होने के बाद भी पुलिस अभी तक कार्यवाही नहीं कर रही। पीड़ित दलित परिवार का आरोप है कि इतना समय बीत जाने के बाद भी पुलिस प्रशासन की ओर से किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है।

परिवार ने पुलिस अधीक्षक को भी अपनी शिकायत के माध्यम से पूरी जानकारी दी। मामले को 4 दिन से ज्यादा बीत चुके हैं, लेकिन अभी तक भी किसी के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गयी है।

भीम आर्मी के कार्यकर्ता ने दी जानकारी

उत्तर प्रदेश के कासगंज में हुई इस घटना की जानकारी भीम आर्मी के एक कार्यकर्त्ता ने अपने ट्विटर के माध्यम से दी है।

कासगंज पुलिस ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए यह लिखा है कि “प्रकरण के संबंध में थाना सिढ़पुरा पर अभियोग पंजीकृत कर नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है।”

The Mooknayakhttps://themooknayak.in
The Mooknayak is dedicated to Marginalised and unprivileged people of India. It works on the principle of Dr. Ambedkar and Constitution.

Related Articles

लूट के फर्जी खुलासे में सीएम योगी के आदेश पर भी नहीं दर्ज हुई FIR, पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर ने की FIR की मांग

2 अगस्त 2014 में कानपुर के बर्रा में सर्राफा व्यापारी से हुई थी लाखों की लूट। द मूकनायक ने पूरे मामले पर...

लाखों बच्चों को पौष्टिक भोजन का अधिकार पाने के लिए जल्द ही चाहिए होगा आधार कार्ड

रिपोर्ट- तपस्या केंद्र सरकार की उन राज्यों की फंडिंग में कटौती करने का फैसला, जो यह सुनिश्चित नहीं करते...

कोलकाता : सेंट स्टीफेन स्कूल की टीचर्स ने प्रिंसिपल पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

कोलकाता के सेंट स्टीफेन स्कूल की दो टीचर्स ने अपने प्रिंसपल और स्कूल सेक्रेटरी के खिलाफ उत्पीड़न मामले की शिकायत की। पहले...
- Advertisement -

Latest Articles

लूट के फर्जी खुलासे में सीएम योगी के आदेश पर भी नहीं दर्ज हुई FIR, पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर ने की FIR की मांग

2 अगस्त 2014 में कानपुर के बर्रा में सर्राफा व्यापारी से हुई थी लाखों की लूट। द मूकनायक ने पूरे मामले पर...

लाखों बच्चों को पौष्टिक भोजन का अधिकार पाने के लिए जल्द ही चाहिए होगा आधार कार्ड

रिपोर्ट- तपस्या केंद्र सरकार की उन राज्यों की फंडिंग में कटौती करने का फैसला, जो यह सुनिश्चित नहीं करते...

कोलकाता : सेंट स्टीफेन स्कूल की टीचर्स ने प्रिंसिपल पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

कोलकाता के सेंट स्टीफेन स्कूल की दो टीचर्स ने अपने प्रिंसपल और स्कूल सेक्रेटरी के खिलाफ उत्पीड़न मामले की शिकायत की। पहले...

यूपी: जानलेवा हमले में घायल दलित की इलाज के दौरान मौत, पुलिस पर दाह-संस्कार के लिए जबरदस्ती करने का आरोप

इलाज के दौरान मौत के बाद घण्टों तक शव रखकर परिजनों ने किया प्रदर्शन। पुलिस जबरन शव उठाकर करने जा रही थी...

बदलती राजनीतिक मर्यादाओं में दल-बदल कानून की प्रासंगिकता!

लेख: अलीशा हैदर नक़वी महाराष्ट्र की राजनीति में अप्रत्याशित बदलाव हो रहे हैं. महा विकास अघाड़ी में सरकार...