14.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022

ग्राउंड रिपोर्ट: राजस्थान में मेडिकल कॉलेज भवन निर्माण की गति धीमी, 3 साल में महज 30 प्रतिशत निर्माण कार्य

केंद्र प्रायोजित योजना के तहत जिला व रेफरल अस्पतालों को उन्नत करते हुए देश में 157 नए मेडिकल कॉलेज अनुमोदित किए गए हैं, इनमें से राजस्थान में 23 मेडिकल कॉलेज का निर्माण वर्ष 2023 तक पूरा करना है।

जयपुर। राजस्थान सरकार मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना, मुख्यमंत्री निशुल्क जांच योजना जैसी जनकल्याणकारी योजनाओं को लाने के बाद अब प्रदेश की जनता को स्वास्थ्य का अधिकार देने के लिए विधानसभा में विधेयक लाने वाली है। हालांकि, सरकार की महात्वाकांक्षी योजना को सम्बल देने के लिए शुरू किए जा रहे मेडिकल कॉलेजों के ढांचागत विकास की मंथर गति (धीमी गति) सरकार की मंशा पर प्रश्नचिन्ह लगा रही है। अक्टूबर 2019 में राजस्थान में सवाईमाधोपुर, भरतपुर, करौली, टोंक, दौसा सहित सात जिलों में नए मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा की गई थी। तीन साल गुजर जाने के बाद भी ज्यादातर जिलों में मेडिकल कॉलेज भवन निर्माण 25 से 30 प्रतिशत ही हो पाया है। सवाईमाधोपुर जिले में मेडिकल कॉलेज भवन का निर्माण अभी हाल में शुरू हुआ है। अमूमन यही हाल करौली व टोंक जिलों का भी है।

30 बीघा में 340 करोड़ की लागत से बनेगा मेडिकल कॉलेज

सवाईमाधोपुर जिला मुख्यालय पर 30 बीघा भूमि में मेडिकल कॉलेज भवन का निर्माण होगा। यह भवन 325 करोड़ रुपए की लागत से बनेगा। चिकित्सा शिक्षा महकमे ने मेडिकल कॉलेज निर्माण के लिए सरकारी कम्पनी आरएसआरडीसी व जयपुर की एक निजी कम्पनी को टेंडर दिया है। सम्बन्धित निर्माण कराने वाली कम्पनी ने मेडिकल कॉलेज के लिए आवंटित भूमि का समतलीकरण कार्य शुरू कर दिया है। निर्माण शुरू करने के लिए बोर्ड भी लगा कर साइट पर निर्माण सामग्री पहुंचने का कार्य भी किया जा रहा है। सम्भवतः 30 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सवाईमाधोपुर के मेडिकल कॉलेज का वर्चुअल शिलान्यास भी करने वाले हैं।

Construction material laid on the land allotted for the medical college campus [Photo- Abdul Mahir, The Mooknayak]
मेडिकल कॉलेज परिसर के लिए आवंटित जमीन पर रखी निर्माण सामग्री [फोटो- अब्दुल माहिर, द मूकनायक]

मेडिकल कॉलेज भवन निर्माण के नोडल अधिकारी व पीएमओ सवाईमाधोपुर डॉ. बीएल मीना ने द मूकनायक को बताया कि, “यहां मेडिकल कॉलेज भवन निर्माण कार्य यूं तो जनवरी 2023 तक पूर्ण होना था, लेकिन अपरिहार्य कारणों से समय पर निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका। यहां निर्माण कार्य अब शुरू हुआ तो निर्धारित समय अवधि में निर्माण पूर्ण होना ना मुमकिन है। हालांकि निर्माण में देरी का कारण भूमि चयन व आवंटन के साथ टेंडर प्रक्रिया को बताया जा रहा है।”

दो चरणों में होगा काम

मेडिकल कॉलेज भवन का काम दो चरणों में होगा। पहले चरण में 83 करोड़ 85 लाख रुपए की लागत से ठीगला में भवन बनेगा। इसमें शैक्षणिक भवन, पुरुष व महिलाओं के लिए अलग-अलग छात्रावास, खेल मैदान, प्रधानाचार्य निवास, शिक्षक आवास आदि का निर्माण होगा। दूसरे चरण में मेडिकल अस्पताल का निर्माण होगा। इसमें 250 बेड का नवीन अस्पताल बनेगा। 4 अलग-अलग ऑपरेशन थियेटर भी बनेंगे। चिकित्सा सुविधाओं का भी विस्तार होगा। 30 बेड की इमरजेंसी सुविधा के साथ ही एक स्किल लैब बनाई जाएगी। मेडिकल कॉलेज निर्माण की 60 प्रतिशत राशि केंद्र व 40 प्रतिशत राशि राज्य सरकार खर्च करेगी।

फिर भी दूसरे राज्यों से बेहतर

मेडिकल कॉलेज भवनों का निर्माण कार्य भले ही धीमी गति से चल रहा हो, लेकिन चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी विभागीय आधारभूत संरचना से संतुष्ट हैं। उनका कहना है कि, दो साल बाद राजस्थान में 32 सरकारी मेडिकल कॉलेज होंगे। वर्तमान में जोधपुर एम्स समेत 16 सरकारी मेडिकल कॉलेज हैं। राजसमंद, प्रतापगढ़ जालोर जिले में भी यदि स्वीकृति मिल गई तो राज्य का एक भी जिला बिना मेडिकल कॉलेज के नहीं रहेगा। निजी कॉलेजों को शामिल करने पर यह आंकड़ा 40 पर पहुंच जाएगा। सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेज मिलाकर कुल 6 हजार से ज्यादा एमबीबीएस सीटें होंगी। इससे जहां हर जिले में इलाज की राह आसान होगी। वहीं विद्यार्थी कम खर्चे पर मेडिकल की पढ़ाई कर सकेंगे। दरअसल, केंद्र प्रायोजित योजना के तहत जिला व रेफरल अस्पतालों को उन्नत करते हुए देश में 157 नए मेडिकल कॉलेज अनुमोदित किए गए हैं। इनमें से राजस्थान में 23 मेडिकल कॉलेज हैं, जिनमें से सात तो शुरू भी हो चुके हैं।

राजस्थान एमबीबीएस सीटों के मामले में आठवें पायदान पर

राज्यसीटें
तमिलनाडु10425
कर्नाटक9695
महाराष्ट्र9450
उत्तर प्रदेश 8678
गुजरात5650
तेलंगाना5340
आंध्रप्रदेश5210
राजस्थान4680
सत्र 2021-22 के अनुसार सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेज में कुल सीटें

इस तरह खुल रहे नए सरकारी मेडिकल कॉलेज

केंद्रीय प्रायोजित योजनान्तर्गत राज्य में जिला व रेफरल अस्पतालों से जुड़े नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना तीन चरणों में की जा रही है। अब तक 23 जिलों में नए मेडिकल अनुमोदित हो चुके हैं। इनमें से कई शुरू हो चुके हैं।

चरण एक- बाड़मेर, भरतपुर, भीलवाड़ा, चूरू, डूंगरपुर, पाली और सीकर
चरण दो- धौलपुर
चरण तीन- अलवर, बारां, बासवाड़ा, चित्तौडगढ, जैसलमेर, करौली नागौर, श्रीगंगानगर, सिरोही, बूंदी, सवाईमाधोपुर, टोंक, हनुमानगढ़, दौसा व झुंझुनूं।

एक्सपर्ट व्यू- बेहतर होगी उपचार की राह

“नए कॉलेज खुलने में अभी देरी है, लेकिन फिर भी जब ये शुरू होंगे राज्य में ज्यादा डॉक्टर तैयार होंगे और ग्रास रूट तक स्वास्थ्य सेवाएं मजबूत होंगी। प्रदेश के लोगों को इलाज के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। प्रदेश में मेडिकल टूरिज्म भी विकसित होगा। एक डॉक्टर, मरीज को ज्यादा समय दे पाएगा, जिससे उसकी बीमारी की गहराई से जांच हो सकेगी। लक्षण आधारित उपचार की बजाय डाइग्नोस लेवल बढ़ेगा। मेडिकल कॉलेज खुलने से केवल चिकित्सा क्षेत्र को ही लाभ नहीं होता बल्कि वहां रोजगार भी बढ़ता है।” डॉ. आशीष गुप्ता, ज्योति नर्सिंग होम, सवाईमाधोपुर ने द मूकनायक को बताया।

Abdul Mahir
अब्दुल माहिर 2003 से लगातार राजस्थान पत्रिका में बतौर रिपोर्टर के रूप में काम कर चुके हैं। इसके अलावा पत्रिका टीवी में भी कार्य कर चुके हैं। मौजूदा समय में अब्दुल माहिर राजस्थान से द मूकनायक के लिए रिपोर्ट कर रहे हैं।

Related Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...
- Advertisement -

Latest Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...

मध्य प्रदेश: वन संरक्षण के लिए आदिवासी युवाओं को रोजगार से जोड़ रहा वन विभाग

वन उपज को एकत्र कर जीवनयापन करने वाले आदिवासी युवकों के लिए विभाग ने शुरू किया कौशल विकास कार्यक्रम।

खबर का असरः सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने लगा दूध

जयपुर। राजस्थान के सरकारी विद्यालयों व मदरसों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को अब प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार...