15.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022

मुझे पहचानते हो, मेरा नाम कांशीराम है, मैं समाज जगाने निकला हूं

लेख- राजीव यादव

बहुजन राजनीति को संसदीय राजनीति में सत्ता पर काबिज करने वाले कांशीराम जी जिन्हें मान्यवर से संबोधित किया जाता है को आज के दौर में याद करना बहुत जरूरी है.

तमाम राजनीतिक इत्तेफाकियों-नाइत्तेफाकियों के बीच इस बात को मानने में कोई संदेह नहीं कि जनता से संवाद और उस तक उनकी पहुंच का इस दौर में कम्युनिस्ट पार्टियों के अलावां कोई दूसरा सशक्त उदाहरण नहीं दिखता. वो भी बिना पूंजीपतियों और भाड़े के कार्यकर्ता और बेरोजगारों को आईटी सेल से जोड़कर माहौल बनाने वालों के बिना.

जब भी क्षेत्र में जाते हैं और खास तौर पर दलित बस्तियों में तो यह पूछने पर की क्या कभी कांशीराम जी से मुलाकात हुई या देखा.
इतना कहते ही कोई न कोई किस्सा शुरू हो जाता है. जैसे यूपी के आजमगढ़ जिले के निजामाबाद ब्लॉक के करियाबर गांव में मिस्त्री चाचा ने कांशीरामजी के कई किस्से सुनाए। अभी हाल में उनका देहांत हो गया।

इसी तरह 2 अप्रैल 2018 भारत बंद के दौरान सगड़ी में एक वकील साहब से बात हुई तो उन्होंने कहा कि हम लोग छोटे-छोटे थे. सामने वाले मैदान को दिखाते हुए बोले कि यहीं हम लोग खेल रहे थे तो एक अम्बेसडर कार रुकी. एक आदमी निकला और हम लोगों से पूछा मुझे पहचानते हो. हमने मना किया तो बोला कि मेरा नाम कांशीराम है, मैं समाज जगाने निकला हूं.

मैंने वकील साहब से पूछा और कौन-कौन था तो उन्होंने कहा कि ड्राइवर के सिवा कोई नहीं.

आज नेताओं के लावा-लश्कर, गाड़ियों के काफिले को जवाब है कि जनता-समाज के प्रति कमिटमेंट ही असली कांफिडेंस देता है, गाड़ी-घोड़ा नहीं.

इस दौर में बहुजन की राजनीति करने वालों को समझना चाहिए कि जिस समाज के लिए लड़ने का दावा कर रहे, वो दिहाड़ी मजदूर है. हर दिन रैली में नहीं जा सकता. उससे मिलने चट्टी-चौराहों पर जाना होगा.

एक बार एक जगह सुबह स्नान कर रहा था तो आदतन अपने कपड़े धो रहा था तो एक आदमी वहां गौर से देख रहे थे, और पूछे कि कपड़ा क्यों धो रहे थे. मैंने कहा सफर में आदत सी हो गई है, तो उन्होंने कहा कि मान्यवर भी ऐसा ही किया करते थे.

गांवों में कांशीराम जी को लेकर खूब सारी कहानियां हैं. हर दस-बीस किलोमीटर पर किसी चट्टी-चौराहे पर वो आए थे, बैठकी किए थे, ऐसे किस्से जब लोग सुनाते हैं तो मैं सोचता हूं कि कितना जन-जन तक उनकी पहुंच थी.

सुल्तानपुर निवासी कामरान भाई बता रहे थे कि तिकोनिया पार्क के एक कोने में उनको पहली बार कुछ लोगों के साथ बैठक करते देखा. बाद में बसपा का सुल्तानपुर का कार्यालय भी उनके मकान में बना.

इसी तरह पिछले दिनों गोरखपुर में डॉ. आरपी गौतम ने दुर्गा प्रसाद जी से मुलाकात कराई, उनके पास भी ढेरों किस्से हैं. कभी वक्त मिला तो इन किस्सों को लेकर बुकलेट टाइप का कुछ लिखूंगा.

कांशी तेरी नेक कमाई, तूने सोती कौम जगाई

[लेखक- राजीव यादव, रिहाई मंच के महासचिव हैं]

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति The Mooknayak उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार The Mooknayak के नहीं हैं, तथा The Mooknayak उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

The Mooknayakhttps://themooknayak.in
The Mooknayak is dedicated to Marginalised and unprivileged people of India. It works on the principle of Dr. Ambedkar and Constitution.

Related Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...
- Advertisement -

Latest Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...

मध्य प्रदेश: वन संरक्षण के लिए आदिवासी युवाओं को रोजगार से जोड़ रहा वन विभाग

वन उपज को एकत्र कर जीवनयापन करने वाले आदिवासी युवकों के लिए विभाग ने शुरू किया कौशल विकास कार्यक्रम।

खबर का असरः सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने लगा दूध

जयपुर। राजस्थान के सरकारी विद्यालयों व मदरसों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को अब प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार...