30.2 C
Delhi
Sunday, July 3, 2022

सच का खुलासा किया तो मिली मौत, आरटीआई एक्टिविस्ट को मारा, जलाया और बोरे में फेंक दिया

22 साल के अविनाश झा अपने काम की वजह से कई लोगों की आंखों की किरकिरी बने हुए थे।

बिहार में 12 नवम्बर को  22 साल के अविनाश झा का शव मिला। वे पत्रकार और आरटीआई एक्टिविस्ट थे। उनका शव पूरी तरह से जला हुआ था। बुद्धिनाथ झा उर्फ अविनाश झा एक स्थानीय न्यूज पोर्टल के साथ जुड़कर काम करते थे।

अविनाश ने ‘फर्जी’ मेडिकल क्लिनिक के बारे में फेसबुक पर पोस्ट लिखे थे। इसी के दो दिन बाद से वो लापता हो गए थे। अविनाश के आरटीआई और सरकार से शिकायत करने की वजह से कुछ क्लिनिक बंद हो गए थे। कई क्लिनिक पर जुर्माने भी लगाए गए थे।

जानकारी के अनुसार बिहार सरकार के लोक शिकायत निवारण कानून के तहत फर्जी मेडिकल क्लिनिक के बारे में सरकार तक शिकायतें पहुंचाते थे। इस कानून के अनुसार 60 कार्यदिवस के अंदर कार्रवाई करना ज़रूरी होता है। इसी की वजह से अविनाश कई लोगों के आंखों में खटकते रहते थे।  

इसी मामले में एक विडियो भी दिख रहा है जिसमें अविनाश के घर के पास के क्लिनिक के करीब लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज है। इसमें रात करीब 9:58 पर अविनाश किसी से फोन पर बात करते हुए दिखते हैं। इसी फुटेज के बाद वो गायब हो गए थे।

अगली सुबह परिजनों ने उसकी खोजबीन की, तो वो कहीं नहीं मिले। 10 नवंबर को परिजनों ने ही सीसीटीवी कैमरे को खंगाला था। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने उनका मोबाइल ट्रेस किया, तो बेनीपट्टी थाने से पश्चिम करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर उनका फोन 10 तारीख की सुबह 9 बजे के करीब में आखिरी बार ऑन किया गया था। जब पुलिस वहां पहुंची तो उसे कोई जानकारी नहीं मिली।

कैसे मिला शव

बेनीपट्टी थाना में दर्ज एफआईआर में पुलिस जांच कर रही थी लेकिन कोई सुराख नहीं मिल रहा था। यह मामला सुर्खियों में तब आया, जब अविनाश के लापता होने की जानकारी सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी। 12 नवंबर को अविनाश के चचेरे भाई बीजे विकास के नंबर पर उड़ेन गांव के एक युवक का कॉल आया। फोन पर उसे बताया गया कि गांव के पास हाईवे के निकट एक लाश मिली है। इसके बाद प्रशासन के साथ कुछ परिजन मौके पर पहुंचे, जहां शव की शिनाख्त हुई।

शव को जलाकर सड़क किनारे फेंका गया था. शव की पहचान अविनाश के हाथ की अंगूठी, पैर में मस्से का निशान, गले में चेन से की गई। शव को बरामद करने के साथ ही अविनाश के बड़े भाई के सहमति से शव को तत्काल मधुबनी सदर अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया, जहां रात में शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सुपुर्द किया गया। अविनाश का अंतिम संस्कार 13 नवंबर को किया गया।

नोट- ख़बर की जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स और स्थानीय पत्रकारों से ली गई है।

Shubhi Chanchal
शुभी चंचल, मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट, द मूकनायक | Email: shubhi.chanchal@themooknayak.in | शुभी चंचल द मूकनायक से बतौर मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट जुड़ी हैं। शुभी लगभग 10 वर्षों से पत्रकारिता और लेखन के क्षेत्र में काम कर रही हैं। इसके साथ ही सोशल मीडिया हैंडलिंग और विडियो कंटेंट पर भी काम किया है। शुरुआती पढ़ाई लखनऊ से करने के बाद आईआईएमसी से हिन्दी पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। फिर हिन्दुस्तान हिन्दी, दी लल्लनटॉप, नवभारतटाइम्स जैसे मीडिया संस्थानों में बतौर सीनियर कॉपी एडिटर काम करने के बाद लगभग ढाई वर्ष तक महिलाओं और वंचित समुदाय की न्याय तक पहुंच सुनिश्चित करने वाली संस्था आली के साथ काम किया है। हाशिए पर मौजूद समुदायों के साथ खड़े रहने को हमेशा तत्पर हैं। ब्राह्मणवादी पितृसत्तात्मक सोच के कतई ख़िलाफ़ हैं। चाहती हैं कि हम सब ऐसे समाज की तरफ बढ़ सकें जहां सभी समान हों, सभी को समान अवसर मिले।

Related Articles

लूट के फर्जी खुलासे में सीएम योगी के आदेश पर भी नहीं दर्ज हुई FIR, पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर ने की FIR की मांग

2 अगस्त 2014 में कानपुर के बर्रा में सर्राफा व्यापारी से हुई थी लाखों की लूट। द मूकनायक ने पूरे मामले पर...

लाखों बच्चों को पौष्टिक भोजन का अधिकार पाने के लिए जल्द ही चाहिए होगा आधार कार्ड

रिपोर्ट- तपस्या केंद्र सरकार की उन राज्यों की फंडिंग में कटौती करने का फैसला, जो यह सुनिश्चित नहीं करते...

कोलकाता : सेंट स्टीफेन स्कूल की टीचर्स ने प्रिंसिपल पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

कोलकाता के सेंट स्टीफेन स्कूल की दो टीचर्स ने अपने प्रिंसपल और स्कूल सेक्रेटरी के खिलाफ उत्पीड़न मामले की शिकायत की। पहले...
- Advertisement -

Latest Articles

लूट के फर्जी खुलासे में सीएम योगी के आदेश पर भी नहीं दर्ज हुई FIR, पूर्व IPS अमिताभ ठाकुर ने की FIR की मांग

2 अगस्त 2014 में कानपुर के बर्रा में सर्राफा व्यापारी से हुई थी लाखों की लूट। द मूकनायक ने पूरे मामले पर...

लाखों बच्चों को पौष्टिक भोजन का अधिकार पाने के लिए जल्द ही चाहिए होगा आधार कार्ड

रिपोर्ट- तपस्या केंद्र सरकार की उन राज्यों की फंडिंग में कटौती करने का फैसला, जो यह सुनिश्चित नहीं करते...

कोलकाता : सेंट स्टीफेन स्कूल की टीचर्स ने प्रिंसिपल पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट

कोलकाता के सेंट स्टीफेन स्कूल की दो टीचर्स ने अपने प्रिंसपल और स्कूल सेक्रेटरी के खिलाफ उत्पीड़न मामले की शिकायत की। पहले...

यूपी: जानलेवा हमले में घायल दलित की इलाज के दौरान मौत, पुलिस पर दाह-संस्कार के लिए जबरदस्ती करने का आरोप

इलाज के दौरान मौत के बाद घण्टों तक शव रखकर परिजनों ने किया प्रदर्शन। पुलिस जबरन शव उठाकर करने जा रही थी...

बदलती राजनीतिक मर्यादाओं में दल-बदल कानून की प्रासंगिकता!

लेख: अलीशा हैदर नक़वी महाराष्ट्र की राजनीति में अप्रत्याशित बदलाव हो रहे हैं. महा विकास अघाड़ी में सरकार...