26.1 C
Delhi
Monday, August 8, 2022

मध्य प्रदेश: गांव के इकलौते आदिवासी घर की महिला बनी सरपंच

भोपाल। मध्यप्रदेश के मन्दसौर जिले की ग्राम पंचायत आक्याबिका में इस बार आदिवासी महिला को गांव के लोगों ने निर्विरोध सरपंच चुना है। आदिवासी महिला मांगीबाई का परिवार 30 साल पहले मजदूरी करने इस गांव मे आया था। लेकिन, गाँव की सरपंच पद की सीट आदिवासी महिला आरक्षित होने के कारण गाँव के लोगों ने मांगीबाई को निर्विरोध सरपंच बना दिया।

द मूकनायक को मांगीबाई बताती हैं कि, उनका परिवार 30 साल पहले आक्याबिका गांव में मजदूरी करने आया था। मजदूरी ठीक मिली तो यहीं रहने लगे और आज 30 साल बाद एसा मौका आया की पंचायत चुनाव प्रकिया मे गांव मे आदिवासी महिला की सीट आरक्षित हुई। मांगीबाई ने कहा, पूरे गांव मे उनका ही परिवार एक मात्र आदिवासी परिवार है। सभी गांव वालो ने निर्विरोध सरपंच उन्हें चुन लिया।

आदिवासी महिला मांगीबाई, Photo- Ankit Pachauri, The Mooknayak
आदिवासी महिला मांगीबाई, Photo- Ankit Pachauri, The Mooknayak

द मूकनायक से बात करते हुए मांगीबाई के पति धन्नालाल ने बताया कि, “30 साल पहले प्रदेश के राणापुर के उबेराप गांव से यहां अपने पिता के साथ मजदूरी करने आए थे तब वे छोटे थे। आक्याबिका गांव में सरकारी स्कूल के बरामदे में रहते थे, स्कूल खुला तो पास में ही झोपड़ी बनाकर रहने लगे। गांव में पटेल साहब के यहा हाली बनकर सालो से काम किया।”

जिले के मल्हारगढ विकासखण्ड के आक्याबिका और बांसखेड़ी गांव की एक ग्राम पंचायत आक्याबिका है। गांव की चार हजार आबादी में करीब डेढ़ हजार मतदाता हैं। पंचायत चुनाव के लिए वार्डो से 17 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया है। गांव में हर वर्ग के लोग हैं लेकिन, आदिवासी वर्ग का एक ही परिवार यहां है। इसीलिए यहां आरक्षित आदिवासी की सीट पर मांगीबाई का एकल नामांकन दाखिल हुआ है।

निर्विरोध सरपंच चुनी जाने वाली मांगीबाई ने बताया कि, उनकी पहली प्राथमिकता गांव में नल-जल की व्यवस्था करना है। उनका सपना है कि गांव में पानी की टँकी हो और हर घर मे नल हो। वहीं महिलाओं की सुरक्षा और शिक्षा के क्षेत्र में काम करने का भी वादा किया।

Ankit Pachauri
Journalist, The Mooknayak

Related Articles

मध्यप्रदेशः पंच-सरपंच महिलाओं के अधिकार पर पति-रिश्तेदारों का ‘डाका’, कैसे सशक्त होंगी महिलाएं!

सरपंच निर्वाचित महिला के पति ने ली शपथ, दलित सरपंच ने सामान्य वर्ग के युवक को बनाया सरपंच प्रतिनिधि.

राजस्थान: 30 घंटे पेड़ से लटका रहा दलित संत का शव, भाजपा विधायक सहित 3 पर केस दर्ज

साधु ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में भाजपा विधायक पर लगाए गंभीर आरोप जालोर। राजस्थान के जालौर जिले में...

राजस्थानः अल्प मानदेय में मदरसों के पैरा टीचर्स कर रहे काम, कैसे हो परिवार का पालन-पोषण!

रिपोर्ट- अब्दुल माहिर बोर्ड से पंजीकृत मदरसों के पैरा टीचर्स बेहाल, शिक्षक कर रहे आर्थिक तंगी का सामना।
- Advertisement -

Latest Articles

मध्यप्रदेशः पंच-सरपंच महिलाओं के अधिकार पर पति-रिश्तेदारों का ‘डाका’, कैसे सशक्त होंगी महिलाएं!

सरपंच निर्वाचित महिला के पति ने ली शपथ, दलित सरपंच ने सामान्य वर्ग के युवक को बनाया सरपंच प्रतिनिधि.

राजस्थान: 30 घंटे पेड़ से लटका रहा दलित संत का शव, भाजपा विधायक सहित 3 पर केस दर्ज

साधु ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में भाजपा विधायक पर लगाए गंभीर आरोप जालोर। राजस्थान के जालौर जिले में...

राजस्थानः अल्प मानदेय में मदरसों के पैरा टीचर्स कर रहे काम, कैसे हो परिवार का पालन-पोषण!

रिपोर्ट- अब्दुल माहिर बोर्ड से पंजीकृत मदरसों के पैरा टीचर्स बेहाल, शिक्षक कर रहे आर्थिक तंगी का सामना।

मध्यप्रदेशः सागर की ‘बसंती’ पर मानव तस्करी का आरोप, नाबालिग से करवाती थी अवैध धंधा!

भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले में महिला द्वारा मानव तस्करी का सनसनीखेज मामला सामने आया है। पुलिस ने दो गुमशुदा बच्चियां...

उत्तर प्रदेशः दरोगा ने दो दलित भाइयों को चौकी में बंद कर रात भर पीटा, जुर्म कबूल करने का बनाया दबाव!

मंझनपुर क्षेत्र से नाबालिग लड़की गायब हुई थी, पुलिस ने पूछताछ के लिए थाने बुलाया था। लखनऊ। यूपी...