15.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022

जमानत के बाद भी नजरबंद रहेंगे पत्रकार गौतम नवलखा

नई दिल्ली। भीमा कोरेगांव मामले में जेल में बंद पत्रकार गौतम नवलखा को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा कर दिया है। 10 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने नवलखा को रिहा करने का आदेश दे दिया है जिसके बाद उन्हें नवी मुंबई के तलोजा जेल से रिहाई मिल गई है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें अगले एक महीने तक नजरबंद रखा जाएगा। उनकी गंभीर बीमारियों को देखते हुए उन्हें नजरबंद रखने का फैसला सुनाया गया है।

माकपा की बिल्डिंग में रखा जाएगा नजरबंद

रिहाई के बाद गौतम नवलखा को नवीं मुंबई के बेलापुर-अग्रोली इलाके के कॉमरेड बी टी रणदिवे मेमोरियल लाइब्रेरी की पहली मंजिल पर रखा जाएगा। इस बिल्डिंग में मार्क्सवादी पार्टी का पुस्तकालय भूतल पर है। इसी बिल्डिंग के पहली मंजिल पर एक बड़े हॉल में गौतम नवलखा अपनी साथी सहबा हुसैन के साथ रहेंगे। नजरबंदी के बाद उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच रखा गया है।

नवलखा को पुलिस ने क्यों किया था गिरफ्तार

साल 2017 की 31 दिसंबर को नवलखा ने पुणे में आयोजित एल्गार परिषद सम्मेलन में एक भाषण दिया था। पुलिस के अनुसार यह एक भड़काऊ भाषण था। पुलिस ने यह दावा किया था कि अगले दिन पश्चिमी महाराष्ट्र के बाहरी इलाके कोरेगांव भीमा युद्ध स्मारक के पास हिंसा भड़क गई थी।

हिंसा के पहले आयोजित कार्यक्रम को प्रतिबंधित सीपीआईएम से जुड़े लोगों द्वारा आयोजित किया था। 1 जनवरी 2018 को भड़की हिंसा के मामले को पुलिस ने उक्त भाषण के साथ जोड़ते हुए एक दर्जन से अधिक सामाजिक कार्यकर्ता और शिक्षाविदों को आरोपी बनाया था। बाद में यह मामला एनआईए को सौंप दिया गया था। 10 नवंबर को हुई गौतम नवलखा की रिहाई पर एनआईए ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सुप्रीम कोर्ट के रिहा नहीं करने की अपील की थी।

साल 2020 में किया था सरेंडर

आपको बता दें कि इससे पहले डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती 14 अप्रैल के दिन साल 2020 को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद गौतम नवलखा ने अपने आपको एनआईए के समक्ष सरेंडर किया था। जिसके बाद उन्हें दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद रखा गया था। कोरोना के दौरान उन्होंने अपनी बीमारियों के लिए अंतरिम जमानत की भी मांग की थी। लेकिन यह अर्जी खारिज कर दी गई थी। इतना ही नहीं उन्हें दिल्ली से नवीं मुंबई की जेल में शिफ्ट कर दिया गया।

गौतम नवलखा को जमानत से पहले वकील और सामाजिक कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज और लेखक वरवरा राव को जमानत मिल गई थी। वहीं इसी मामले में जेल में बंद फादर स्टेन स्वामी की जमानत की आस में जेल में ही मौत हो गई।

गौतम नवलखा

कौन हैं गौतम नवलखा?

गौतम नवलखा एक मानवाधिकार कार्यकर्ता और पत्रकार हैं जो अंग्रेजी की पात्रिका द इकोनॉमिक और पॉलिटिकल वीकली के एडिटर कंसलटेंट रह चुके हैं। यह मुख्य रूप से लेफ्ट विंग के लिए लिखते रहते हैं। साथ ही भारतीय आर्मी और कश्मीर में होने वाली प्रताड़ना के बारे में प्रमुख रूप से लिखते रहे हैं। नवलखा पीपल्स यूनियन फॉर डेमोक्रेटिक राइट के सेक्रेटरी रह चुके हैं।

क्या है भीमा कोरेगांव मामला?

भीमा-कोरेगांव वो जगह है, जहाँ एक जनवरी 1818 को मराठा और ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच ऐतिहासिक युद्ध हुआ था। इस युद्ध में दलित महार समुदाय ने पेशवाओं के खिलाफ अंग्रेजों की ओर से लड़ाई लड़ी थी। अंग्रेजों की ईस्ट इंडिया कंपनी ने महार रेजिमेंट की बदौलत ही पेशवा की सेना को हराया था। इस घटना के 200 साल पूरे होने पर 31 दिसंबर, 2017 में पुणे में दलित संगठनों व एल्गार परिषद की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया था, जिसमें बड़ी संख्या में दलित समाज से लोग एकत्र हुए थे। मामला कार्यक्रम में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने से जुड़ा है। पुणे पुलिस का दावा था कि, “इस भाषण की वजह से अगले दिन कोरेगांव-भीमा में हिंसा फैली। इस दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई। इस कार्यक्रम का आयोजन करने वाले लोगों के माओवादियों से संबंध हैं।” मामले की जांच बाद में एनआईए को सौंप दी गई थी। हिंसा फैलाने में हिंदू संगठन के लोगों का भी नाम सामने आया था।

Poonam Masih
Poonam Masih, Journalist The Mooknayak

Related Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...
- Advertisement -

Latest Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...

मध्य प्रदेश: वन संरक्षण के लिए आदिवासी युवाओं को रोजगार से जोड़ रहा वन विभाग

वन उपज को एकत्र कर जीवनयापन करने वाले आदिवासी युवकों के लिए विभाग ने शुरू किया कौशल विकास कार्यक्रम।

खबर का असरः सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने लगा दूध

जयपुर। राजस्थान के सरकारी विद्यालयों व मदरसों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को अब प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार...