14.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022

मध्य प्रदेश: तेंदुओं की संख्या में बढ़ोतरी, भोजन की कमी में जंगल से सटे गांव में पालतू जानवरों का कर रहे शिकार

भोपाल। इंदौर वन मंडल के जंगलों में तेंदुए की आबादी में लगातार बृद्धि हो रही है। वर्ष 2020 में तेंदुओं की संख्या 70 से 80 थी। अब संख्या 110 से 120 हो चुकी है। इस साल 25 से ज्यादा तेंदुए रेस्क्यू किए गए हैं। तेंदुओं की आबादी बढ़ने के बाद से ही जंगल के आस-पास रहवासी इलाक़ों में खतरा बढ़ गया है। तेंदुए जंगल पास के रिहायशी इलाके और गांव में जाकर पालतू जानवरों का शिकार कर रहे हैं। 

भोजन कमी हो रही महसूस

इंदौर वन मंडल में 1 जनवरी से 31 अक्टूबर के बीच तेंदुए 27 शिकार कर चुके हैं। मुर्गा, मुर्गी से लेकर गाय, भैंस, बकरा, बकरी का शिकार तेंदुओं ने किया है। गौरतलब है कि चोरल और मानपुर में आदिवासी बस्ती में दो लोगों पर भी तेंदुए हमला कर चुके हैं। हमले में तेंदुए ने एक आदिवासी युवक का हाथ दबोच लिया था तो दूसरे की पीठ पर पंजा मार दिया था।

तेंदुआ

इन रेंजों में किया है शिकार

तेंदुए की बढ़ती आबादी के करण अब वह जन आबादी वाले इलाकों में पालतू पशुओं के शिकार कर रहे हैं। इसी वर्ष में ही इंदौर रेंज में 1, महू में 26, मानपुर में 30, चोरल में 27 जानवरों का शिकार तेंदुए कर चुके हैं।

वन और पर्यावरण विशेषज्ञ के मुताबिक, जंगलों के पास रेल लाइन, बिजली लाइन, पानी की लाइन, सड़क, जंगल से सटकर टाउनशिप, रिसोर्ट के निर्मित होने के कारण वन्य प्राणी की संख्या में कमी हुई है। वहीं लकड़ी आपूर्ति के लिए कटाई होने से भी जंगल कम हो रहे हैं। तेंदुए हल्की झाड़ियों में भी रह लेते हैं। शिकार नहीं मिलने पर वह बसाहट (जहां इंसानों की बस्तियां होती है) के करीब पहुंच रहे हैं। वन्य क्षेत्रों में शिकार की कमी भी हुई है। 

रेंजर पीएस चौहान के मुताबिक मानपुर, महू में जितने भी शिकार हुए, वह देर शाम से सुबह के बीच हुए। तेंदुआ इसी समय शिकार के लिए सक्रिय रहता है। जंगलों से चरने के बाद घर लौटते मवेशी या फिर रात को बाड़े में बंधे मवेशियों पर हमले हुए हैं। गर्मी के समय अधिकांश शिकार हुए हैं। जंगलों में पानी नहीं मिलता है। लिहाजा प्यास बुझाने, नाले, कुएं या तालाब के पास तेंदुआ चला आता है।

द मूकनायक से बातचीत करते हुए इंदौर वन मंडल सीसीएफ नरेंद्र कुमार सरोदिया ने बताया कि “तेंदुओं की संख्या तेजी से बढ़ी है। पहले हमारे यहाँ 70 से 80 तेंदुए थे। लेकिन अभी एसएफआरआई ने सर्वे में लगभग 25 प्रतिशत तेंदुओं को बढ़ जाने की जानकारी दी है।” उन्होंने बताया की एसएफआरआई सर्वे कर रहा है। फाइनल रिपोर्ट आने के बाद ही सही संख्या सामने आएगी। 

Ankit Pachauri
Journalist, The Mooknayak

Related Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...
- Advertisement -

Latest Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...

मध्य प्रदेश: वन संरक्षण के लिए आदिवासी युवाओं को रोजगार से जोड़ रहा वन विभाग

वन उपज को एकत्र कर जीवनयापन करने वाले आदिवासी युवकों के लिए विभाग ने शुरू किया कौशल विकास कार्यक्रम।

खबर का असरः सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने लगा दूध

जयपुर। राजस्थान के सरकारी विद्यालयों व मदरसों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को अब प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार...