14.1 C
Delhi
Wednesday, November 30, 2022

होमवर्क पूरा न होने पर स्कूल प्रबंधक ने तीसरी कक्षा के दलित छात्र के बाल जड़ से उखाड़े, एक महीना पहले पिटाई से कान का पर्दा फटा था

उत्तर प्रदेश। यूपी के कानपुर जिले में तीसरी कक्षा का दलित छात्र पिछले कई महीनों से उच्च जाति के स्कूल के प्रबंधक की चुपचाप पिटाई सह रहा था। परिजनों का आरोप है कि पहले प्रबंधक ने जब छात्र की पिटाई की थी तब उसका कान का पर्दा फट गया था। बीते 5 नम्बर को टीचर के हौसले और बढ़ गए। उसने छात्र के बाल पकड़ कर बर्बरता से पिटाई कर दी। इस घटना में छात्र के बाल उखड़ गए। छात्र की मां का आरोप है कि उन्होंने क्षेत्रीय पुलिस से शिकायत की थी। पुलिस ने प्रबंधक का 151 में चालान कर दिया था, लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं की। इस मामले में कोई भी एफआईआर दर्ज नही की गई। पीड़िता ने इसकी शिकायत पुलिस आयुक्त से की। पुलिस आयुक्त की फटकार के बाद क्षेत्रीय पुलिस ने घटना के लगभग एक सप्ताह बाद आरोपी प्रबंधक के खिलाफ 11 नवम्बर 2022 को भारतीय दण्ड संहिता की धारा- 323, 504 व एससी एसटी एक्ट की धारा-3(1) (द,ध) में मुकदमा दर्ज किया है।

जानिए क्या है पूरा मामला?

कानपुर के पनकी क्षेत्र के रतनपुर के डूडा कॉलोनी निवासी गुड्डी गौतम अपने पति अजय गौतम और बच्चे आरव गौतम के साथ रहती हैं। गुड्डी ने बताया उनका बेटा पंचमुखी विद्यालय में तीसरी कक्षा का छात्र है। गुड्डी का आरोप है कि, “5 नवम्बर 2022 को मेरा बेटा स्कूल गया हुआ था। जब वह छुट्टी के समय घर लौटा तो वह रो रहा था। मैंने जब इसका कारण पूछा तो बेटे ने बताया कि वह होमवर्क करना भूल गया था। इससे नाराज होकर स्कूल के प्रबंधक ने मेरे बाल उखाड़ दिए और पिटाई की।”

थाने पर शिकायत पर मामूली कार्रवाई की गई

गुड्डी का आरोप है कि, “प्रबंधक अरुण कटिहार की बेरहमी से पिटाई की शिकायत लेकर जब महिला पनकी थाने पहुंची तो पुलिस ने सुनवाई करने की बजाय 151 की कार्रवाई करते हुए मामले से पल्ला झाड़ लिया।”

टीचर की पिटाई से डरा-सहमा बच्चा

“विद्यालय प्रबंधन मुझे लगातार धमकी दे रहा है। जिससे आहत होकर मैंने पुलिस कमिश्नर बीपी जोगदंड को शिकायती पत्र सौंपते हुए न्याय की गुहार लगाई,” गुड्डी ने कहा।

कमिशनर की फटकार के बाद दर्ज हो सका मुकदमा

पुलिस कमिशनर की फटकार के बाद आला-अफसरों ने मामले पर संज्ञान लेते हुए स्थानीय पुलिस को एससी-एसटी सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के निर्देश दिए। मामले में मुकदमा लिखे जाने के बाद छात्र के माता-पिता ने राहत की सांस ली है।

एक महीना पहले प्रबंधक की पिटाई से फटा कान का पर्दा, चल रहा ईलाज

छात्र की मां ने जानकारी दी कि, “एक महीना पहले भी प्रबंधक ने मेरे बेटे आरव की पिटाई की थी। इस पिटाई में उसके कान का पर्दा फट गया था। जिसका इलाज हैलट अस्पताल से चल रहा है।”

जानिए क्या बोले जिम्मेदार?

पूरे मामले पर अधिकारियों ने जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है। गंभीर धाराओं में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया है। हालांकि बच्चे के साथ हुई मारपीट पर अभी तक ना तो शिक्षा विभाग के किसी जिम्मेदार अधिकारी ने संज्ञान लेकर कार्रवाई की है ना ही मामले में जांच करने की जहमत उठाई।

Satya Prakash Bharti
Satya Prakash Bharti, Journalist The Mooknayak

Related Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...
- Advertisement -

Latest Articles

मध्य प्रदेशः 10 हजार स्वास्थ्य केंद्र बनेंगे मॉडल, सर्व सुविधायुक्त होंगे अस्पताल

प्रथम चरण में 23 जिलों में 500 हेल्थ एंड वेलनेस एवं 23 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आदर्श...

अब कीटनाशक भी ऑनलाइन शॉपिंग मार्किट में, पढ़िए कृषि विशेषज्ञ व किसानों ने क्या दी राय

जयपुर। अब किसान फ्लिपकार्ट (flipkart) व ऐमाजॉन (amazon) ई-कॉमर्स साइट्स से भी कीटनाशक खरीद सकेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसे ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म्स...

दादी-पिता ने 6 माह की नवजात बच्ची को फेंका,पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार

लखनऊ। यूपी के पीलीभीत में गत 18 नवंबर को झाड़ियों में नवजात शिशु पड़ा हुआ मिला था। इस मामले में पुलिस ने...

मध्य प्रदेश: वन संरक्षण के लिए आदिवासी युवाओं को रोजगार से जोड़ रहा वन विभाग

वन उपज को एकत्र कर जीवनयापन करने वाले आदिवासी युवकों के लिए विभाग ने शुरू किया कौशल विकास कार्यक्रम।

खबर का असरः सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने लगा दूध

जयपुर। राजस्थान के सरकारी विद्यालयों व मदरसों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को अब प्रत्येक मंगलवार व शुक्रवार...